2. साधना किसे कहते हैं?

नियमित आराधना, साधना, स्वाध्याय, प्रतिक्रमण, सामायिक, घ्यान, भक्ति आदि साधना के नियम है जो प्रत्येक साधक को प्रतिदिन अनिवार्य रूप से करने हैं।